Join ventures Meaning in hindi I ज्वाइंट वेंचर क्या है? ज्वाइंट वेंचर के प्रकार

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now


अगर आप भी ज्वांइट वेंचर को बहुत ही सरल तरह से जानना चाहतें हैं तो यह इस लेख को पूरा अवश्य पढे़ क्योकि इसमे हमने ज्वांइट वेंचर से सम्बन्धित सभी बातो को बहुत ही अच्छे से समझाया हैं. जैसे कि ज्वांइट वेंचर किसे कहते हैं? ज्वांइट वेंचर क्या हैं? ज्वांइट वेंचर के लाभ क्या हैं? ज्वांइट वेंचर क्या हैं? आदि आइए जानते हैं अब ज्वांइट वेंचर को –

ज्वाइंट वेंचर का अर्थ


ज्वांइट वेंचर को हिन्दी में संयुक्त उद्यम कहा जाता हैं इस तरह के उद्यम में दो या दो से अधिक कंपनिया साथ मिलकर कार्य करती हैं.

उदाहरण: माना कि एक आइस क्रीम की कम्पनी किसी फ्रूट व मैदा कंपनी के साथ मिलकर कार्य करें. जिसमे सबका बराबर फायदा व नुकसान होता हैं.

ज्वाइंट वेंचर क्या होता हैं


अगर हम बात करें कि ज्वांइट वेंचर आखिर हैं क्या तो आपको बता दें इसमे विशेष बात यह हैं कि इसमें एक से अधिक कंपनिया एक समझौते या एग्रीमेंट के तहत साथ मिलकर किसी नये उत्पाद या प्रोड्क्ट को तैयार करने हेतु अपनी कंपनी के रिसोर्सेस, धन, व योजनाओ का उपयोग करते हैं. आइए इसे हम एक उदाहरण से अच्छे से समझे

उदाहरण: माना कि एक मोबाइल कंपनी, एक साफ्टवेयर कंपनी, और एक अन्य कंपनी द्वारा अपने रिसोर्सेस उपयोग कर एक 6G मोबाइल फोन तैयार करने हेतु काम कर रही हैं. इस नये उत्पाद या प्रोडक्ट के बाजार में आने पर इससे होने वाला घाटा या मुनाफा बराबरी में शेयर किया जाएगा

संयुक्त उद्यम या ज्वांइट वेंचर


जब उद्योगिक जगत के व्यापारी अपने व्यापार व प्रोड्क्ट या उत्पाद को बेहतर बनाने की दिशा में आगे बढ़ते हैं तो दो या उससे भी अधिक गुट, संस्था या कंपनियां साथ में एक लीगल समझौते द्वारा जुड़ कर अधिक से अधिक लाभ कमाने की लिए संयुक्त रूप से एक दूसरे के साथ कार्य करती हैं या सहयोग करती हैं


देखा जाए तो सभी कंपनिया तभी ज्वांइट वेंचर में जुड़ती हैं जब उन्हे किसी विशिष्ट परियोजना पर कार्य करना हों.

ज्वाइंट वेंचर के प्रकार

ज्वाइंट वेंचर मुख्यत: दो प्रकार के होते हैं

  • कर्मचारी-आधारित ज्वाइंट वेंचर
  • उपकरण-आधारित ज्वाइंट वेंचर

कर्मचारी-आधारित ज्वाइंट वेंचर


इस तरह के वेंचर में कंपनिया अपने अपने विशेष विशेषज्ञो को कार्य करने के लिए चुनती हैं.


उदाहरण: माना अलग-अलग तरह की तीन से चार कंपनिया किसी ज्वांइट वेंचर में प्रवेश करती हैं पहली कंपनी A दूसरी B और तीसरी C तो वे एक नयी परियोजना पर कार्य करने के लिए अपनी-अपनी कंपनी से बेहतरीन विशेषज्ञों को चुनती हैं


उपकरण-आधारित ज्वांइट वेंचर :

उपकरण-आधारित ज्वांइट वेंचर में तकनीकी व मशीनरी सम्मिलित हैं इस तरह के वेंचर में मुख्यत: उपकरणों के अविष्कार और नयी टेक्नोलॉजी को लाने के लिए कार्य किया जाता हैं आज के इस दौर में उपकरण और टैक्नॉलॉजी बहुत ही महत्वपूर्ण कारक हैं इसके द्वारा आज के समय में सारे काम रूके पढे़ हैं आइए इसे एक उदाहरण से अच्छे से समझें


उदाहरण: माना कि एक कार बनाने वाली कंपनी , एक टैक्नॉलॉजी और एक मैटल कंपनी एक समझौते के द्वारा ज्वांइट वेंचर बनाती हैं और एक हाई एडवांस नयी कार को बनाने के लिए अपने अपने रिसोर्सेस, धन , व योजनाओं का उपयोग करते हैं.
.

ज्वाइंट वेंचर के लाभ

  • ज्वांइट वेंचर द्वारा रिसोर्सेस की उपलब्धता भरपूर होती हैं
  • इसके द्वारा खर्चो पर कमी आती हैं.
  • इसके द्वारा कंपनिया सम्मिलित होकर अपने अपने बिजनेस को आगे बढा़ती हैं.
  • इसके द्वारा आर्थिक जोखिम को कम किया जा सकता हैं.
  • इसके द्वारा विशिष्ट योजना पर मिलकर कार्य किया जा सकता हैं.


ज्वांइट वेंचर के नुकसान

इस तरह के वेंचर में शुरूआती समय में अलग-अलग कंपनियो के कर्मरचारियो को साथ मिलकर काम करने में परेशानी का सामना करना पड़ सकता हैं.

  • शुरूआत में संसाधनों एवं कार्य का वितरण सामान रूप से नहीं हो पाता हैं
  • कभी-कभी, ज्वांइट वेंचर के उद्देश्य स्पष्ट नहीं होते हैं
  • देखा जाए तो सभी कंपनियो के रिसोर्सेस अलग अलग तरह के होते हैं जिस कारण किसी कंपनी के संसाधनों का अधिक उपयोग होता हैं जबकि कुछ का उपयोग न के बराबर.
  • अगर किसी पक्ष द्वारा किसी तरह की परेशानी खडी़ की जाती हैं तो भी समझौते के तहत भुगतान दोनों पक्षो को करना होता हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *